Mahamrutunjay Jaap Puja
Trimbakeshwar

+91 9890702222
Blog-Image
Pandit Rakesh Tripathi Guruji
Trimbakeshwar Mahamrutunjay Jaap Puja

Mahamrityunjaya Mantra is the most powerful of all ancient Sanskrit mantras. It is a mantra that has many names and forms

|| ॐ त्र्यम्‍बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्‍धनान् मृत्‍योर्मुक्षीय मा मृतात् ||

Mahamrityunjaya means victory over the great death, victory over the illusion of separateness from spirit. Mahamrityunjay Jaap anustan is done for a long and healthy life and to get rid of prolonged sickness. specially for those on their death bed.

Mahamritunjay meaning Trimbakeshwar. Lord Trimbakeshwar represents the aspect of the Supreme being and is considered to be the destroyer of evil and sorrow. Use Mantra for Healing during/after surgery, for illness, emotional trauma, meditation, massage, or preparation for transition.

It is a mantra that has many names and forms. It is called the Rudra mantra, referring to the furious aspect of Shiva; the Tryambakam mantra, alluding to Shiva's three eyes; and its is sometimes known as the Mrita-Sanjivini mantra because it is a component of the "life-restoring" practice given to the primordial sage Shukra after he had completed an exhausting period of austerity. The Mahamrityunjay mantra is hailed by the sages as the heart of the Veda.

Mahamrutunjay Jaap Puja In Hindi

महामृत्युंजय मंत्र ऋग्वेद का एक श्लोक है.शिव को मृत्युंजय के रूप में समर्पित ये महान मंत्र ऋग्वेद में पाया जाता है.स्वयं या परिवार में किसी अन्य व्यक्ति के अस्वस्थ होने पर मेरे पास अक्सर बहुत से लोग इस मन्त्र की और इसके जप विधि की जानकारी प्राप्त करने के लिए आते हैं. इस महामंत्र के बारे में जहांतक मेरी जानकारी है,वो मैं पाठकों के समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ.

महा मृत्युंजय मंत्र का पुरश्चरण सवा लाख है और लघु मृत्युंजय मंत्र की 11 लाख है.मेरे विचार से तो कोई भी मन्त्र जपें,पुरश्चरण सवा लाख करें.इस मंत्र का जप रुद्राक्ष की माला पर सोमवार से शुरू किया जाता है.जप सुबह १२ बजे से पहले होना चाहिए,क्योंकि ऐसी मान्यता है की दोपहर १२ बजे के बाद इस मंत्र के जप का फल नहीं प्राप्त होता है.आप अपने घर पर महामृत्युंजय यन्त्र या किसी भी शिवलिंग का पूजन कर जप शुरू करें या फिर सुबह के समय किसी शिवमंदिर में जाकर शिवलिंग का पूजन करें और फिर घर आकर घी का दीपक जलाकर मंत्र का ११ माला जप कम से कम ९० दिन तक रोज करें या एक लाख पूरा होने तक जप करते रहें. अंत में हवन हो सके तो श्रेष्ठ अन्यथा २५ हजार जप और करें.ग्रहबाधा, ग्रहपीड़ा, रोग, जमीन-जायदाद का विवाद, हानि की सम्भावना या धन-हानि हो रही हो, वर-वधू के मेलापक दोष, घर में कलह, सजा का भय या सजा होने पर, कोई धार्मिक अपराध होने पर और अपने समस्त पापों के नाश के लिए महामृत्युंजय या लघु मृत्युंजय मंत्र का जाप किया या कराया जा सकता है.

समस्‍त संसार के पालनहार, तीन नेत्र वाले शिव की हम अराधना करते हैं। विश्‍व में सुरभि फैलाने वाले भगवान शिव मृत्‍यु न कि मोक्ष से हमें मुक्ति दिलाएं।|| इस मंत्र का विस्तृत रूप से अर्थ ||हम भगवान शंकर की पूजा करते हैं, जिनके तीन नेत्र हैं, जो प्रत्येक श्वास में जीवन शक्ति का संचार करते हैं, जो सम्पूर्ण जगत का पालन-पोषण अपनी शक्ति से कर रहे हैं,उनसे हमारी प्रार्थना है कि वे हमें मृत्यु के बंधनों से मुक्त कर दें, जिससे मोक्ष की प्राप्ति हो जाए.जिस प्रकार एक ककड़ी अपनी बेल में पक जाने के उपरांत उस बेल-रूपी संसार के बंधन से मुक्त हो जाती है, उसी प्रकार हम भी इस संसार-रूपी बेल में पक जाने के उपरांत जन्म-मृत्यु के बन्धनों से सदा के लिए मुक्त हो जाएं, तथा आपके चरणों की अमृतधारा का पान करते हुए शरीर को त्यागकर आप ही में लीन हो जाएं.

About-Image
28+
years of
experience
About Guruji

Authorized Pandit In Trimbakeshwar,Nashik Pandit Rakesh Tripathi Guruji

काल सर्प दोष के प्रकार १२ होते है। आपकी कुंडली में कौनसे प्रकार का काल सर्प दोष है यह जानकर उस प्रकार की काल सर्प पूजा की जाती है। इसलिए यह जानना जरुरी हो जाता है की आपकी कुंडली में कौनसा काल सर्प दोष है। कुंडली जांचने के लिए पंडित राकेश त्रिपाठी गुरुजी से संपर्क करे। कुंडली में काल सर्प दोष होने के कारण कई प्रकार की समस्याएं जीवन में आती है। जैसे के विवाह में विलम्ब होना, विवाह टूटना , घर में अशांति, व्यापार में नुकसान, शारीरिक समस्याएं आदि। त्र्यंबकेश्वर में काल सर्प पूजा करने से यह सारी समस्याएं दूर हो जाती है। काल सर्प पूजा के लिए पंडित राकेश त्रिपाठी गुरुजी से संपर्क करे। नारायण शास्री उनके पूजा करने के बाद मिलने वाले अच्छे परिणामो की वजह से त्रयम्बकेश्वर में विख्यात है। गुरूजी से काल सर्प पूजा करने से ४१ दिन में १०० प्रतिशत अच्छे परिणाम की प्राप्ति होती है। काल सर्प पूजा का खर्चा और मुहूर्त जानने के लिए गुरूजी से संपर्क करे। धन्यवाद्।

+91 9890702222